Follow by Email

25 August, 2011

सरकारी लोकपाल

"ग्राम-सभा" सबसे बड़ी, सभी सभा की मूल |
"ठेठ-सभाएँ" किन्तु करें, कीमत बड़ी वसूल ||

कीमत  बड़ी  वसूल,  उसूल तोड़ते शाश्वत |
हो  जाते  सब  एक, फायदा अपनी बाबत ||

कर 'अन्ना' अफ़सोस,  रमे  सब  भ्रष्टाचारी |
उठा रहे नित लाभ, पास हों 'बिल सरकारी' || 

9 comments:

  1. सही आंकलन किया है ... अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  2. बिल्कुल सही कहा।

    ReplyDelete
  3. खूबसूरती से... सत्य कहा...
    सादर...

    ReplyDelete
  4. बहुत बढ़िया....

    ReplyDelete
  5. "ाम-सभा" सबसे बड़, सभी सभा क मूल | "ठेठ-सभाएँ" कतु कर, कमत बड़ वसूल ||
    bhut khoob
    aapne sachchai likh daali
    badhai

    ReplyDelete
  6. बहुत बढ़िया....

    ReplyDelete
  7. अन्‍ना हजारे ने कहा कि देश में जनतंत्र की हत्‍या की जा रही है और भ्रष्‍ट सरकार की बलि ली जाएगी। यानि खून के बदले खून?

    ReplyDelete