Follow by Email

28 February, 2012

रविकर आशीर्वाद, नए जोड़े को देता ।

कुंडली
अच्छे अच्छे लाल से, सीखे सकल समाज ।
सामूहिक दुष्कर्म से, मरे मनुजता लाज ।

मरे मनुजता लाज, दोष क्या उसका भैया ?
चला बराती साज,  वरे दुल्हन को  सैंया ।

रविकर आशीर्वाद, नए जोड़े को देता ।
रहे सदा आबाद, बलैयाँ बम-बम लेता । 

दोहा
   मरे मीडिया मुहुर्मुह, तड़क-भड़क पर रोज ।
 पहल अनोखी को भला, कैसे लेवे खोज ??                                                                       
 

9 comments:

  1. दोहों और कुंडलियों की बरसात है आपका ब्लॉग दिनेश जी ...
    आनद आ गया ...

    ReplyDelete
  2. अच्छे सार्थक दोहे...
    शुक्रिया.

    ReplyDelete
  3. सहज, सरल शब्दों के प्रयोग से सुंदर भावाभिव्यक्ति। बहुत अच्छी प्रस्तुति।
    "AAJ KA AGRA BLOG"

    ReplyDelete
  4. सुन्दर एवं सार्थक दोहे !
    आभार !

    ReplyDelete
  5. आपकी पोस्ट ब्लोगर्स मीट वीकली (३३) में शामिल की गई है /आप आइये और अपने विचारों से अवगत करिए /आपका स्नेह और आशीर्वाद इस मंच को हमेशा मिलता रहे यही कामना है /आभार /
    इसका लिंक है
    http://hbfint.blogspot.in/2012/03/33-happy-holi.html

    ReplyDelete
  6. मरे मीडिया मुहुर्मुह, तड़क-भड़क पर रोज ।
    पहल अनोखी को भला, कैसे लेवे खोज ??

    मीडिया को चाहिये सनसनी ।

    ReplyDelete