Follow by Email

17 March, 2016

कुमार विश्वास, स्मृति ईरानी, राहुल गांधी होली में

रविकर
फगुनाहट आहट हटकु, टुक टुक ताके भांग ।
जमे अमेठी में सभी, करें भांग पे स्वांग ।
करें भांग पे स्वांग, खड़े गांधी ईरानी ।
वहीँ खड़े विश्वास, वहीँ उनकी दीवानी ।
करते कविता पाठ, इकठ्ठा वोटर दुगुना ।
चढ़ती भंग तरंग, गीत गाते फिर फगुना ॥

कुमार विश्वास
अंटी में पैसा नहीं, आकर गया अघाय ।
घंटा देकर के गए, हमें केजरी भाय ।
हमें केजरी भाय, जीतना यहाँ जरुरी ।
दांव-पेंच षड्यंत्र, करूंगा कोशिश पूरी ।
चल देता फिर चाल, घुमा देता वह फन्टी ।
हँसते जब युवराज,  होय तब विस्मृति अंटी ।

स्मृति ईरानी
आँखे रही तरेर वह, विस्मृति वह चिल्लाय  ।
सिट्टी-पिट्टी घुम गई, अंगुली रही दिखाय॥

अंटी कहते हो हमें, खुद को कहो जवान ।
हुवे छियालिस बरस के, अजब गजब अरमान ॥

राहुल बाबा
राहुल बाबा बोलते, चढ़ा चढ़ा के बांह ।
मैं तो हूँ अब तक जवाँ, हुआ नहीं जो व्याह ॥

बच्चों की चिंता करो, मोदी रहे सताय ।
डायन भी तो सात घर, छोड़-छाड़ के खाय ॥

कुमार विश्वास
कोई दीवाना कहे, किन्तु नहीं विश्वास ।
कभी रही थी तुम बहू, बनो नहीं अब सास ॥

हुआ नहीं जो व्याह तो, दिखा रहे क्यों शान ।
होगे मोदी अटल सा, क्या तुम पंत-प्रधान ॥

ताड़ा जे एन यू सकल, गया हैदराबाद ।
किन्तु बहू पाई नहीं, तुझको तो अवसाद ।
तुझको तो अवसाद , बैठ संसद में जाए ।
बहू वहीँ दे धोय,  जान तेरी अकुलाये ।
नहीं करेगा व्याह, बिता देगा सौ जाड़ा ।
गया वहां से भाग, गया जब बहुत लताड़ा ॥

राहुल बाबा
मोदी की तो बोल मत, दिखे ढोल में पोल ।
मास्टरनी बैठी वहाँ, रही केस अब खोल ॥

ईरानी तू सिर कटा, चिल्लाना बेकार ।
महाठगिन माया सदा, मायामय संसार॥

रविकर
रंग रँगीला दे जमा, रँगरसया रंगरूट |
रंग-महल रँगरेलियाँ, *फगुहारा ले लूट ||
*फगुआ गाने वाला पुरुष -

फ़गुआना फब फब्तियां, फन फ़नकार फनिंद |
रंग भंग भी ढंग से, नाचे गाये हिन्द ||

मूँग दले होरा भुने, उरद उरसिला कूट ।
पापड़ बेले अनवरत, खाय दूसरा लूट ।।

7 comments:

  1. कुंडलियाँ अच्छी है

    ReplyDelete
  2. खूब चटक रंग बिखेरे हैं होली के ...
    बहुत सुन्दर ...

    ReplyDelete
  3. रविकर भाई सुन्दर कुंडलियां विविध विषय समाहित आप का अंदाज ही अलग है ..चटक रंग और व्यंग दोनों से आनंद आया
    भ्रमर ५

    ReplyDelete
  4. Looking to publish Online Books, in Ebook and paperback version, publish book with best
    Book Publishing, printing and marketing company

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete