Follow by Email

16 January, 2017

हरिगीतिका छंद

हरिगीतिका छंद
नौ माह तक माँ राह ताकी आह होंठो में दफन।
दो साल तक दुद्धू पिला शिशु-लात खाई आदतन।
माँ बुद्धि विद्या पुष्टता हित नित्य नव करती जतन ।

फिर राह ताके प्रौढ़ माँ पर द्वार पर ओढ़े कफन।। 

No comments:

Post a Comment