Follow by Email

14 July, 2011

दुश्मनों से बड़ी नरमी

पकडे गए  इन  दुश्मनों ने, 
भोज  सालों  है किया |
मारे गए  उन  दुश्मनों की 
लाश को इज्जत दिया ||

लाश  को  ताबूत  में  रख
पाक  को  भेजा  किये |
शिकायत यह नहीं कि
आप कुछ बेजा किये ---
 राम-लीला   हो    रही |
 है सही बिलकुल सही ||  

रेल के  घायल कराहें,
कर्मियों  की नजर मैली |
जेब कितनों की कटी, 
लुट गए असबाब-थैली |  

तृन-मूली  रेलमंत्री 
यात्री सब घास-मूली 
संग में जाकर बॉस के
कर रहे थे अलग रैली | 

राम-लीला   हो   रही |
हैही बिलकुल सही ||

नक्सली हमले में उड़ते 
वाहनों संग पुलिसकर्मी |
कूड़ा  गाडी  में   ढोवाये, 
व्यवस्था है या बेशर्मी |

दोस्तों संग दुश्मनी तो 
दुश्मनों से  बड़ी  नरमी ||
राम-लीला    हो    रही |
है सही बिलकुल सही ||

5 comments:

  1. वास्तविकता का सही चित्रण किया है आपने.

    ReplyDelete
  2. व्यवस्था की बखूबी बखिया उघेरती झकझोरती...अतिसर्थक रचना....

    साधुवाद !!!!

    ReplyDelete
  3. अब्यवस्था की पोल खोलती ..अंतर्मन को झकझोरती यथार्थ का चित्रण करती सार्थक रचना....अभिनन्दन !!!

    ReplyDelete
  4. वास्तविकता का सही चित्रण किया है आपने.

    ReplyDelete