Follow by Email

14 July, 2011

मरे को दो \, जिन्दा को एक ||

काल कालका का करे, काका  को  कन्फर्म,
आश्रित उनका एक मैं,  सरकारी  सद्कर्म |

सरकारी   सद्कर्म,   नौकरी    मैंने    पाई ,
काकी   मेरे   पास,  रहेगी  बन  कर  माई |

ताजा बम विस्फोट, खड़ा हूँ हक्का-बक्का-
बप्पा घायल पड़े, लाख  का  पूरा  धक्का ||

5 comments:

  1. आपको मेरी हार्दिक शुभकामनायें.
    बहुत ही सुन्दर

    ReplyDelete
  2. हक्का बक्का तो मैं भी खड़ी हूँ कि इस विषय को ऐसे भी लिखा जा सकता ??

    सार्थक...प्रभावशाली...

    ReplyDelete
  3. ताजा बम विस्फोट, खड़ा हूँ हक्का-बक्का-
    बप्पा घायल पड़े, लाख का पूरा धक्का ||
    भारत जैसे देश में ऐसे धक्के तो लगते ही रहते हैं सार्थक लिखा है आपने.

    ReplyDelete
  4. गजब का धक्का लगा -सुन्दर व्यंग्य -ये तो होना ही था सब मंत्री बोले
    सुझाव के साथ अच्छा लगे तो अपना समर्थन भी दें
    शुक्ल भ्रमर ५
    भ्रमर की माधुरी
    बाल झरोखा सत्यम की दुनिया

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete