Follow by Email

15 July, 2011

फन्दे में अब झूल

लो क सं घ र्ष    पर मेरी टिप्पणी  

बढ़िया  दाने-खाद  ले,  करे  सिंचाई   नीक,   

भगवद  कृपा  से  हुई, उपज बहुत ही ठीक | 

उपज बहुत ही  ठीक, घटी  जिससे  मंहगाई  

करे  महाजन  मौज,  बैल  पर  विपदा आई | 

कर रविकर अफ़सोस,  बिकाई  सूदे बछिया,  

फन्दे  में  अब  झूल,   तरीका   ढूंढा  बढ़िया ||

फंदे में तू झूल --
महाजन का फंदा |
सरकार का फंदा
या मौत का फंदा ||

1 comment:

  1. क्या बात है जी बहुत खूब

    ReplyDelete