Follow by Email

15 October, 2011

नाचा जब युवराज, पैर इक थिरके ज्यादा |

बेगाने की शादियाँ,  अब्दुल्लाई  साज |
पशोपेश में था पड़ा, जब नाचा युवराज |


Bhutan wedding 12 20111013 
भूटान-नरेश की शादी 
जब नाचा युवराज, पैर इक थिरके ज्यादा |
दूजा रुक-रुक जाय, याद कर बिसरा वादा |


कह  नरेश समझाय,  समझ  पैरों  के  माने |
ताक  नहीं  कैरियर,  बुला "दुल्हन" बेगाने ||


7 comments:

  1. kyaa khoob likhaa priy ravikar ji

    kuchh likhne kaa man ho gayaa ,koshish kartaa hoon
    t

    raajaaon kaa carrier jaise badaa jahaaj

    roj hamsafar doosraa dulhan bani koyee aaj .

    dulhan bani koyee aaj jee lee chaahe baazi

    kal yadi uljhan mile ,kare kyaa mulla qaazi

    jane kitne bharte har naresh kaa paanee

    magalmay vivaah chir shubh ho dulhin raanee


    saamyik sundar srijan .badhaayee ravikar ji .

    ReplyDelete
  2. अजी इसे मेहमानों की लिस्ट को अंतिम रूप देने की कवायद ही समझिए!!!

    ReplyDelete
  3. आदरणीय दिनेश गुप्त "रविकर जी "
    बहुत बहुत आभार आप का .आप की मेहनत को सलाम ..हमारे प्रिय मित्रो के बारे में संजीदा जानकारी और एक दुसरे से परिचय कराने का जो नायाब तरीका और सिलसिला आप ने आरम्भ किया है वह काविले तारीफ़ है ..प्रभु आप की लेखनी में और धार दें और बुलंदियों तक आप को पहुंचाएं ...
    आप ने मेरा भी यानी "भ्रमर" का परिचय मित्र गण से कराया मन खुश हुआ नहीं तो हम वन्जारों से देश दुनिया में भटकने वालों के पास इतना वक्त कहाँ की सब कभी मिल एकाकार हो जाएँ दिल की कह सकें सुन सकें इस चिटठा जगत के माध्यम से एक प्रयास सतत चलता रहता है की दुनिया में शांति कायम हों सब को भरपेट भोजन मिले और सुकून भरी प्यारी जिन्दगी ...
    झरने सा कल कल बहते पत्थरों के बीच रगड़ते घिसते खेत बाग़ वन जंगल पहाड़ियों आदि हर समाज के बीच हमेशा एक सुन्दर सन्देश पहुँचाना और जो कुछ भी संभव हो भला करना .........
    वसुधैव कुटुम्बकम की खातिर ....एक लक्ष्य है ..काश हमारे सभी प्रिय नागरिक एक स्वच्छ समाज सुसंस्कृति भावी पीढ़ी तैयार करें और इस देश को बुलंदियों तक पहुंचाएं ताकि हमारा भारत अपना सच्चा स्थान दुनिया की चोटी पर चढ़ पा ले अपना तिरंगा फहराए हम फिर शास्त्रार्थ में ज्ञान से सब को मात दे दें ...
    अनुरागी भ्रमर ५
    जल पी बी
    १५.०५.२०११

    October 16, 2011 8:41 PM

    ReplyDelete
  4. वाह वाह ... वाह वाह ... जय हो युवराज जी की ...

    ReplyDelete
  5. नव भारत टाइम्स में-

    पाठको की राय
    राहुल अब पीएम और दूल्हा बन जाएं: दिग्विजय

    12345678
    D C GUPTA RAVIKAR,ISM DHANBAD,का कहना है:बापू बबलू को कहें, दिक दिग्गी हो जात | दिग्गज सत्ता-सुंदरी, सजने लगी बरात | सजने लगी बरात , डार्लिंग बाबी बोली | करना हम को ब्याह, बैठना राहुल डोली | कह रविकर कविराय, खिलाओ मम्मी पपलू | इन्तजार दो साल, बने बापू फिर बबलू ||
    20 Oct 2011, 1821 hrs IST

    D C GUPTA,'RAVIKAR',ISM DHANBAD,का कहना है:बेगाने की शादियाँ, अब्दुल्लाई साज | पशोपेश में था पड़ा, जब नाचा युवराज | जब नाचा युवराज, पैर इक थिरके ज्यादा | दूजा रुक-रुक जाय, याद कर बिसरा वादा | कह नरेश समझाय, समझ पैरों के माने | ताक नहीं कैरियर, बुला "दुल्हन" बेगाने ||

    ReplyDelete