Follow by Email

23 April, 2012

तीन फीसदी ब्लॉग पर, होती केवल मार-

 ३०० ब्लॉगों  के अनुसरण-कर्ता
 का आकलन 
बत्तिस प्रतिशत दर्द है, केवल दो उपचार 
तीन फीसदी ब्लॉग पर, होती केवल मार । 

होती केवल मार, रूठना गाली-गुप्ता ।
केवल प्रतिशत एक, ब्लॉग पर पाठक हँसता

दर्शन धर्म अतीत, यात्रा नीति सिखाती
दो प्रतिशत ये ब्लॉग, साठ पर साढ़े-साती ।।

19 comments:

  1. सही कहा आपने, आपसे सहमत ...

    ReplyDelete
  2. वाह रविकर जी............
    वाकई आपका जवाब नहीं....
    :-)

    बहुत बढ़िया दोहे...

    अनु

    ReplyDelete
  3. सटीक और प्रासंगिक .

    ReplyDelete
  4. क्या विश्लेषण है, वाह रविकर जी ।

    ReplyDelete
  5. अपनी तरह का अनुभव.वैसे मार-धाड़ ही हिट है यहाँ !

    ReplyDelete
  6. सही आकलन है रविकर भैया ...
    शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  7. 100 प्रतिशत तय

    ReplyDelete
  8. AAP TO SACHHI BOLTA....YE BAAT AAPAN BHI JHUTH NAHI BOLTA?


    PRANAM.

    ReplyDelete
  9. सूची जारी कर देते तो रवि रवि हो जाते समस्‍त ब्‍लॉग वाले।

    ReplyDelete
  10. एक दम सही बात कही है आपने कई ब्लॉग तो बम्बैया फिल्मों के अंदाज़ में ठुम्मक ठूँ कर रहें हैं .हर तरह का मसाला यहाँ उपलब्ध है .

    ReplyDelete
  11. आकलन सही किया है आपने....आभार!

    ReplyDelete
  12. सटीक आकलन किया है आपने

    ReplyDelete
  13. मस्त अंदाज़ और सटीक आंकलन


    सादर

    ReplyDelete
  14. कोई कोई ब्लाग पर कोई नहीं है आता
    पता नहीं फिर भी ब्लागर लिखता जाता ।

    ReplyDelete
  15. बत्तिस प्रतिशत दर्द है* मन की भड़ास

    ReplyDelete