Follow by Email

06 May, 2012

चले चतुर चौकन्ने चौकस-

श्वेत कनपटी तनिक सी, मुखड़ा गोल-मटोल ।
नई व्याहता दोस्त की, खिसकी अंकल बोल ।
चले चतुर चौकन्ने चौकस ।

केश रँगा मूंछे मुड़ा, चौखाने की शर्ट |
अन्दर खींचे पेट को, अंकल करता फ्लर्ट |
मिली तवज्जो फिर तो पुरकस |

धुर-किल्ली ढिल्ली हुई, खिल्ली रहे उड़ाय |
जरा लीक से हट चले, डगमगाय बलखाय |
रहा सालभर चालू सर्कस |

दाढ़ी मूंछ सफ़ेद सब, चश्मा लागा मोट ।
इक अम्मा बाबा कही, सांप कलेजे लोट ।
बैठ निहारूं खाली तरकस ।।


6 comments:

  1. बहुत अच्छी रचना..

    ReplyDelete
  2. ये है हास्य व्यंग्य विनोद की सटीक बानगी .शुक्रिया .
    कृपया यहाँ भी पधारें -
    सोमवार, 7 मई 2012
    भारत में ऐसा क्यों होता है ?
    भारत में ऐसा क्यों होता है ?
    http://veerubhai1947.blogspot.in/

    ReplyDelete
  3. @चले चतुर चौकन्ने चौकस

    सटीक व्यंग

    ReplyDelete
  4. अपनी इस सुन्दर रचना की चर्चा मंगलवार ८/५/१२/ को चर्चाकारा राजेश कुमारी द्वारा चर्चा मंच पर देखिये आभार

    ReplyDelete
  5. सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  6. दाढ़ी मूंछ सफ़ेद सब, चश्मा लागा मोट ।
    इक अम्मा बाबा कही, सांप कलेजे लोट ।
    बैठ निहारूं खाली तरकस ।।

    निराला अंदाज है आपका.
    शब्द शब्द से व्यंग्य टपक रहा है

    ReplyDelete