Follow by Email

09 May, 2012

जीती दमकल टीम, अग्नि हो जाती ठंडी-

File:London Fire Brigade Command Unit.JPG
दमड़ी दमड़ी जल रही, दे दमकल आवाज ।
दमकल कल से है लगा, मिली सफलता आज ।
 
मिली सफलता आज, बुझा दी गल्ला-मंडी  ।
जीती दमकल टीम, अग्नि हो जाती ठंडी । 

था बीमा बिन माल, सूद अब नोचे चमड़ी ।
दुकनदार बदहाल, बची चमड़ी न दमड़ी ।।

 - next picturehttp://www.firstpost.com/wp-content/uploads/2012/03/kol_hatibaganfire-ibn.jpg

4 comments:

  1. आग बुझ गयी अच्छा हुवा
    अब बस धुआँ ही रह गया ।

    ReplyDelete
  2. बची चमड़ी न दमड़ी
    politician ate it all
    beautiful poem

    ReplyDelete
  3. वाह रविकर जी बहुत अच्छी कुंडली लगाईं है ...वाह

    ReplyDelete