Follow by Email

28 June, 2012

भगवान् राम की सहोदरा (बहन) : भगवती शांता परम-6

सर्ग-1
अथ - शांता 
भाग-1
भाग-2 
भाग-3
भाग-4
भाग-5

भाग-6
रावण का गुप्तचर   
दोहे
असफल खर की चेष्टा, हो बेहद गमगीन |
लंका जाकर के खड़ा,  चेहरा लिए मलीन ||

रावण बरबस बोलता, क्योंकर होत उदास |
कौशल्या के गर्भ का, करके सत्यानाश  ||

File:Demon Yakshagana.jpg


खर बोला भ्राता ज़रा, खबर कहो समझाय |
यह घटना कैसे  हुई, जियरा तनिक जुड़ाय ||

रानी रथ से कूद के, खाय चोट भरपूर |
तीन माह का भ्रूण भी, हो जाता खुद चूर ||



सज्जन खुशियाँ  बांटते, दुर्जन  कष्ट बढ़ाय ।
दुर्जन मरके खुश करे, सज्जन जाय रूलाय ।


खर के सँग फिर गुप्तचर, भेजा सागर पार |
वह सुग्गासुर जा जमा, शुक थे जहाँ अपार ||

हरकारे वापस इधर, आये दशरथ पास |
घटना सुनकर हो गया, सारा अवध उदास ||

विकट मार्मिक कष्टकर, सुना सकल दृष्टांत । 
  असहनीय दुष्कर लगे, होता चित्त अशांत ।

गुरुकुल में शावक मरा, हिरनी आई याद |
अनजाने घायल हुई, चखा दर्द का स्वाद ||


आहों से कैसे भरे, मन के गहरे जख्म ।
मरहम-पट्टी समय के, जख्म करेंगे ख़त्म ।।
अनुमति पाय वशिष्ठ की, तुरत गए ससुरार |
कौशल्या को देखते, नैना छलके प्यार ||

सूरज ने संक्रान्ति से, दिए किरण उपहार |
अति-ठिठुरन थमने लगी, चमक उठा संसार ||

दवा-दुआ से हो गई, रानी जल्दी ठीक |
दशरथ के सत्संग से, घटना भूल अनीक ||

आपाधापी जिंदगी, फुर्सत भी बेचैन।
बेचैनी में ख़ास है, अपनेपन के सैन ।
अपनेपन के सैन, बैन प्रियतम के प्यारे ।
अपनों के उपहार, खोलकर अगर निहारे ।
पा खुशियों का कोष, ख़ुशी तन-मन में व्यापी ।
नई ऊर्जा पाय, करे फिर आपाधापी ।।


विदा मांग कर आ गए, राजा-रानी साथ |
चिंतित परजा झूमती, होकर पुन: सनाथ ||
http://www.shreesanwaliyaji.com/blog/wp-content/uploads/2011/02/vasant-panchami-saraswat-sanwaliyaji_bhadsoda.jpg
धीरे धीरे सरकती, छोटी होती रात |
 हवा बसंती बह रही, जल्दी होय प्रभात |

दिग-दिगंत बौराया | मादक  बसंत आया ||
तोते सदा पुकारे |  मैना मन दुत्कारे ||
काली कोयल कूके | लोग होलिका फूंके || 
सरसों पीली फूली | शीत बची मामूली  || 
भौरां मद्धिम गाये  | तितली मन बहलाए ||
भाग्य हमारे जागे | गर्म वस्त्र सब त्यागे ||  


पीली सरसों फूलती, हरे खेत के बीच |
 कृषक निराई कर रहे, रहे खेत कुछ सींच ||



पौधे भी संवाद में, रत रहते दिन रात |
गेहूं जौ मिलते गले, खटखटात जड़ जात |।
 


तरह तरह की जिंदगी, पक्षी कीट पतंग |
जीव प्रफुल्लित विचरते, नए सीखते ढंग ||



 खुले विचारों वाला जीवन, चाहत उनकी थोड़ी ।
मुक्त गगन उन्मुक्त उड़ाने, गाये गीत निगोड़ी ।।
चौबिस घंटे परबस रविकर, मुट्ठी भर ले दाने-
चाहे जीवन सार सीखना, पर चिड़िया न माने ।।


कौशल्या रहती मगन, वन-उपवन में घूम ||
धीरे धीरे भूलती, गम पुष्पों को चूम ||


खिलें बगीचे में सदा, भान्ति भान्ति के रंग ।
पुष्प-पत्र-फल मंजरी, तितली भ्रमर पतंग ।
तितली भ्रमर पतंग, बागवाँ सारे न्यारे ।
दुनिया होती दंग,  आय के दशरथ द्वारे ।
नित्य पौध नव रोप,  हाथ से हरदिन सींचे ।
कठिन परिश्रम होय, तभी तो खिलें बगीचे ।।



कमल-कुमुदनी से पटा, पानी पानी काम ।
घोंघे करते मस्तियाँ, मीन चुकाती दाम ।
मीन चुकाती दाम,  चाटती काई कीचड़ ।
रहे नोचते पाम, काइयाँ  पापी लीचड़ ।
किन्तु विदेही पात, नहीं संलिप्त  हो रहे ।
भौरे की बारात, पतंगे धैर्य खो  रहे ।।

कौशल्या के गर्भ की, कैसे रक्षा होय |
दशरथ चिंता में पड़े, आँखे रहे भिगोय ||

 
रहे कुशल नारी सदा, छल ना पायें धूर्त ।
संरक्षित निर्भय रहे, संग पिता-पति पूत ।  

तोते कौवे की बढ़ी, महल पास तादाद |
गिद्धराज की तब उन्हें, आई बरबस याद ।।
 
कौशल्या जब देखती, गिद्धराज सा गिद्ध |
याद जटायू को करे, प्यार किया था सिद्ध ||

यह मोटा भद्दा दिखे, आत्मीय वह रूप |
यह घृणित हरदम लगे, उसपर स्नेह अनूप ||

गिद्ध-दृष्टि रखने लगा, बदला-बदला रूप |
अलंकार त्यागा सभी, बनकर रहे  कुरूप ||

केवल दशरथ जानते, होकर रहें सचेत |

अहित-चेष्टा में लगे, खर-दूषण से प्रेत ||

सुग्गासुर अक्सर उड़े, कनक महल की ओर |

देख जटायू को हटे, हारे मन का चोर ||

एक दिवस रानी गई, वन-रसाल उल्लास |

सुग्गासुर आया निकट, बाणी मधुर-सुभाष ||

माथे टीका शोभता, लेता शुक मनमोह |

ऊपर से अतिशय भला, मन में रखता द्रोह ||

रानी वापस आ गई, आई फिर नवरात |
नव-दुर्गा को पूजती, एक समय फल खात ||

स्नानकुंज में रोज ही, प्रात: करे नहान |

भक्तिभाव से मांगती, माता सम सन्तान ||

सुग्गासुर की थी नजर, आ जाता था पास |
 स्वर्ण-हार लेकर उड़ा, इक दिन वह आकाश ||
gold necklace
सुनकर चीख-पुकार को, वो ही भद्दा गिद्ध ||
शुक के पीछे लग गया, होकर अतिशय क्रुद्ध ||

जान बचाकर शुक भगा, था पक्का अय्यार ||

आश्रय पाय सुबाहु गृह, छुपा छोड़ के हार ||

  रानी पाकर हार को, होती हर्षित खूब |

राजा का उपहार वो, गई प्यार में डूब ||
Jawalamukhi Kanya Puja
 नवमी को व्रत पूर्ण कर, कन्या रही खिलाय  |
 चरण धोय कर पूजती, पूरी-खीर जिमाय ||

'रविकर' दिन का ताप अब, दारुण होता जाय |

पाँव इधर भारी हुए, रानी मन सकुचाय ||


अम्बिया की चटनी बने, प्याज पुदीना डाल ।
चटकारे ले न सके,  चिंता से बेहाल  ।। 

अपने गम में लिप्त सब, न दूजे का ख्याल ।
पुतली से रखते सटा, अपने सब जंजाल ।।

हिम्मत से रहिये डटे, घटे नहीं उत्साह |
कोशिश चलने की करो, जीतो दुर्गम राह |



मन की मनमानी खले,  रक्खो खीँच लगाम ।
हड़-बड़ में गड़बड़ करे, पड़ें चुकाने दाम ।
पड़ें चुकाने दाम, अर्थ हो जाय अनर्गल ।
ना जाने क्या कर्म, मर्म को लगे उछल-कर ।
सदा रखो यह ध्यान, शीर्ष का चुन लो प्राणी ।
अनुगामी बन स्वयं, रोक मन की मनमानी ।।
  सर्ग-1 : समाप्त 
 

8 comments:

  1. बहुत उत्कृष्ट प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  2. पौधे भी संवाद में, रत रहते दिन रात |
    गेहूं जौ मिलते गले, खटखटात जड़ जात |।

    व्यापक कलेवर की कथा .

    ReplyDelete
  3. उत्कृष्ट प्रस्तुति ।।



    इस प्रविष्टी की चर्चा बुधवार के चर्चा मंच पर भी होगी !

    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  4. कमल-कुमुदनी से पटा, पानी पानी काम ।
    घोंघे करते मस्तियाँ, मीन चुकाती दाम ।
    मीन चुकाती दाम, चाटती काई कीचड़ ।
    रहे नोचते पाम, काइयाँ पापी लीचड़ ।
    किन्तु विदेही पात, नहीं संलिप्त हो रहे ।
    भौरे की बारात, पतंगे धैर्य खो रहे ।।


    काव्यमय सुंदर रचना बहे सरित सी जाय
    कोशल्या दशरथ जी की कथा अनोखी गाय ।

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर , बहुत बढ़िया .... आभार ..

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर मनोहारी प्रस्तुति ..
    आभार

    ReplyDelete