Follow by Email

26 November, 2012

छोड़ फिरंगीपना, भला मानुष बन बन्दे-

हाथ धोने के पीछे का विज्ञान(दूसरी क़िस्त )

Virendra Kumar Sharma  
ram ram bhai
गंदे हाथों को रगड़, ले साबुन या राख |
सर्वव्याप्त जीवाणु हैं, सेहत करते खाख |


सेहत करते खाख, कीजिये लाख सुरक्षा |
हवा धूल जल वस्तु, भरे घर दफ्तर कक्षा |


छोड़ फिरंगीपना, भला मानुष बन बन्दे |
पॉक्स फ्लू ज्वर एड्स, तपेदिक हैजा गंदे ||

 

2 comments:

  1. शुक्रिया रविकर भाई कुंडली पोस्ट के आमुख पे आ गई है कृपया देखें .आभार .

    ReplyDelete