Follow by Email

24 July, 2013

तब हम भला गरीब, बोल कैसे हो सकते-


सकते में है जिंदगी, दो सौ रहे कमाय |
कुल छह जन घर में बसे, लाल कार्ड छिन जाय | 

लाल कार्ड छिन जाय, खाय के मिड डे भोजन -
गुजर बसर कर रहे, कमे पर कल ही दो जन |

अब केवल हम चार, दाल रोटी नित छकते |
तब हम भला गरीब, बोल कैसे हो सकते ||

 पावरटी घट ही गई , बीस फीसदी शुद्ध |
मँहगाई पर ना घटी, पावरोटियाँ क्रुद्ध |

पावरोटियाँ क्रुद्ध, पाँवड़ा पलक बिछाओ |
नव अमीर बढ़ जाँय, गीत स्वागत के गाओ |

डर्टी पिक्चर देख, लगा सत्ता कापर-टी |
रोके पैदावार, घटा देती पावरटी ||



5 comments:

  1. पावरटी घट ही गई , बीस फीसदी शुद्ध |
    मँहगाई पर ना घटी, पावरोटियाँ क्रुद्ध |
    सही कहा आपने !

    ReplyDelete
  2. आज की बुलेटिन टेस्ट ट्यूब बेबी तकनीक के 35 वर्ष …. ब्लॉग बुलेटिन में आपकी पोस्ट (रचना) को भी शामिल किया गया। सादर .... आभार।।

    ReplyDelete
  3. प्रभावित करती रचना .

    ReplyDelete