Follow by Email

31 July, 2013

बाहर का उन्माद, बने अन्तर की हलचल-

चंचल मन को साधना, सचमुच गुरुतर कार्य |
गुरु तर-कीबें दें बता, करूँ निवेदन आर्य |
 
करूँ निवेदन आर्य, उतरता जाऊँ गहरे |

  जहाँ प्रबल संघर्ष, नहीं नियमों के पहरे |
 
बाहर का उन्माद, बने अन्तर की हलचल |
दे लहरों को मात, तलहटी ज्यादा चंचल ||

7 comments:

  1. तलहटी ही वाकई खराब है।

    ReplyDelete
  2. बहुत प्रभावशाली.

    रामराम.

    ReplyDelete
  3. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 01/08/2013 को चर्चा मंच पर है
    कृपया पधारें
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  4. दे लहरों को मात, तलहटी ज्यादा चंचल ||

    बहुत सही रविकर जी ।

    ReplyDelete
  5. तलहटी सब जमा कर लेती है !

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति है रविकर जी .बाहर का उन्माद बने अंतर की हलचल .

    ReplyDelete