Follow by Email

04 July, 2013

बिपदा बढ़ती बहु-गुणा, बा-शिंदे बेहाल-




 बिपदा बढ़ती बहु-गुणा, बा-शिंदे बेहाल |
बस-बेबस बहते बहे, बज-बंशी भूपाल |  

बज बंशी भूपाल, बहर बंदिशें सुरीली |
मनमोहन मदमस्त, मगन मीरा शर्मीली |

चले अचल छल-चाल, भयंकर नदी बिगडती  | 
चारो तरफ बवाल, हमारी बिपदा बढ़ती ||  

  
RSS Swayamsevaks in Uttarakhand.
RSS Swayamsevaks in Uttarakhand.



4 comments:

  1. सुन्‍दर रचना
    हिन्‍दी तकनीकी क्षेत्र की रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारियॉ प्राप्‍त करने के लिये एक बार अवश्‍य देंखें माई बिग गाइड
    नई पोस्‍ट
    Earn upto Rs. 9,000 pm checking Emails. Join now इन्‍टरनेट से कमायें 9000 हजार रूपये प्रतिमाह तक

    ReplyDelete


  2. सार्थक सन्देश आभार तवज्जह देना ''शालिनी'' की तहकीकात को , आप भी जानें संपत्ति का अधिकार -४.नारी ब्लोगर्स के लिए एक नयी शुरुआत आप भी जुड़ें WOMAN ABOUT MAN लड़कों को क्या पता -घर कैसे बनता है ...



    ReplyDelete
  3. शासन पुराण अनंत भए अनंता.....

    ReplyDelete
  4. बिपदा बढ़ती बहु-गुणा, बा-शिंदे बेहाल


    वाह क्‍या बात है :-)

    ReplyDelete