Follow by Email

05 October, 2013

बढे धरा की शान, बने रविकर सद्कर्मी-

सद्कर्मी रचता रहे, हितकारी साहित्य |
प्राणि-जगत को दे जगा, करे श्रेष्ठतम कृत्य |

करे श्रेष्ठतम कृत्य, धर्म जब हो बेचारा |
होय भोग का भृत्य, चरण चौथा भी वारा |

होंय सफल तब विज्ञ, सुधारें दुष्ट अधर्मी |
बढे धरा की शान, बने रविकर सद्कर्मी ||

6 comments:

  1. बहुत ख़ूब! नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  2. आपकी इस प्रस्तुति की चर्चा कल सोमवार [30.09.2013]
    चर्चामंच 1391 पर
    कृपया पधार कर अनुग्रहित करें |
    नवरात्र की हार्दिक शुभकामनाओं सहित
    सादर
    सरिता भाटिया

    ReplyDelete
  3. होंय सफल तब विज्ञ, सुधारें दुष्ट अधर्मी |
    बढे धरा की शान, बने रविकर सद्कर्मी ||
    सत्य वचन जी ..काश हम सत्कर्म की महत्ता को समझें ..
    नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएं..जय माता दी
    भ्रमर ५

    ReplyDelete
  4. बढ़िया,सुन्‍दर।

    ReplyDelete
  5. बढ़िया दृष्टि सार्थक कलम .

    ReplyDelete
  6. बढ़िया दृष्टि सार्थक कलम .

    बढ़े धरा की शान
    रविकर

    बढे धरा की शान, बने रविकर सद्कर्मी-
    सद्कर्मी रचता रहे, हितकारी साहित्य |
    प्राणि-जगत को दे जगा, करे श्रेष्ठतम कृत्य |

    ReplyDelete