Follow by Email

29 December, 2013

हाजिर हूँ हुजूर -रविकर

एक-दो दिन में नियमित हो जाऊँगा -
(१)
मैय्यत में भी न मिलें, अब तो कंधे चार |
खुद से खुद को ढो रही, लागे लाश कहार ||
(२)
नया वर्ष आसन्न है, कटे आप के क्लेश |
जैजैवन्ती है शुरू, जाय भाड़ में देश ||
(३)
सा'रे गा'मा पा'दते, धा'नी हिलती देख |
रे'गा सा'मा'धा'न सब, ना पा'रे संरेख ||
(४)
आप भला तो जग भला, देख आप आलाप |
सब्ज बाग़ दिखला रहे, चालू क्रिया-कलाप ||

10 comments:

  1. स्वागत है कमी खल रही थी :)
    बहुत सुंदर जिंदगी कुछ ऐसे ही लाद रही है अब :)

    ReplyDelete
  2. गहरे हैं सभी दोहे ... जीवन का सार लिए ...

    ReplyDelete
  3. वाकई क्रियाकलाप छोटे से जीवन में बहुत सारे हो गए हैं।

    ReplyDelete
  4. बहुत बढ़िया प्रस्तुति...आप को मेरी ओर से नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं...

    नयी पोस्ट@एक प्यार भरा नग़मा:-तुमसे कोई गिला नहीं है

    ReplyDelete
  5. काफी दिनों बाद लौटकर पाया,बहुत कुछ मिस किया।

    ReplyDelete
  6. मित्र!आपको सपरिवार नव वर्ष की वधाई !
    अथ, य्थार्थ्से परिपूर्ण दोहे अच्छे हैं |

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर.
    नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ.
    मेरे ब्लॉग पर आपके आने का हार्दिक आभार.

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर प्रस्तुति , आदरणीय बहुत कमीं ख़ल रही थी , आगमन की सूचना से दिल बाग बाग हो गया , धन्यवाद
    ॥ जय श्री हरि: ॥

    ReplyDelete