Follow by Email

26 February, 2014

किया नपुंसक ने खड़ा, डइनासोरी *डिम्ब-

आक्रमणकारी सोच का, यह बयान प्रतिबिम्ब |
किया नपुंसक ने खड़ा, डइनासोरी *डिम्ब |
*डिम्ब= दंगा / अंडा 

डइनासोरी डिम्ब, पकाया पूरा खाया |
हारा तभी हिडिम्ब, भीम ने व्याह रचाया | 

कितने "पुर" बरबाद, किन्तु सन दो का हौआ |
रहे हमेशा याद , रहें कौवाते कौआ || 

4 comments:

  1. कौवाते कौओं की चोंच छिलनेवाली है बुरी तरह।

    ReplyDelete
  2. पुंसकत्व के प्रश्न पर, पुंश्चलीय उदगार।
    सत्य मानता सर्वथा, माँ के कहे विचार ।
    माँ के कहे विचार, रात में ट्रेन जलाई ।
    फ़ैल गई वह आग, लड़े फिर भाई भाई ।
    गुण-ग्राहक की गोद , नहीं फिर रही अहिंसक ।
    गया तड़पता छोड़, कहे इसलिए नपुंसक ॥

    ReplyDelete
  3. वाह जनाब वाह .. क्या खूब कहा है , बहुत ही सामयिक एवं सटीक प्रतिक्रियात्मक रचना

    ReplyDelete