Follow by Email

02 March, 2014

जाय लटक सरकार, चुनावी शंख-नाद हो |-

माते मत वाले मगर, नेता नातेदार |
मारे मिलकर मछलियाँ, जाय लटक सरकार |

जाय लटक सरकार, चुनावी शंख-नाद हो |
बाँध जमुन-जलधार, कालिया से विवाद हो |

लौट द्वारिका जाय, जरासँध जरा सताते |
'आप' इधर बलखाय, जोर रविकर अजमाते ||

6 comments:

  1. वाह वाह ... क्या मस्त तप्सरा राजनीति पे ...

    ReplyDelete
  2. लटकन फटकन जोर मार रही
    है।

    ReplyDelete
  3. आजमाईये आजमाईये जोर बहुत जोर से :)

    ReplyDelete
  4. क्या बात है रविकर जी :

    लौट द्वारिका जाय, जरासँध जरा सताते |
    'आप' इधर बलखाय, जोर रविकर अजमाते ||

    ReplyDelete
  5. क्या बात है रविकर जी :

    लौट द्वारिका जाय, जरासँध जरा सताते |
    'आप' इधर बलखाय, जोर रविकर अजमाते ||

    ReplyDelete