Follow by Email

11 March, 2014

दिखे आप में झोल, भगत बगुला यह अभगत-

भगत सिंह जी सन्न हैं, जब चुनाव आसन्न । 
मिली-भगत मीडिया की, बगुला-भगत प्रसन्न । 

बगुला भगत प्रसन्न, आप का महिमा मंडन । 
दिखे फोर्ड षड्यंत्र, सोवियत रूस विखंडन । 

खुली ढोल की पोल,  हुआ भारत अब अवगत । 
दिखे आप में झोल, भगत बगुला यह अभगत । 

 केजरीवाल का इंटरव्यू !!

Bamulahija dot Com 

8 comments:

  1. बहुत सही ....

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (12-03-2014) को मिली-भगत मीडिया की, बगुला-भगत प्रसन्न : चर्चा मंच-1549 पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  3. ज़बरजस्त व्यंग्य

    ReplyDelete
  4. वाह...बहुत उम्दा और सामयिक पोस्ट...
    नयी पोस्ट@चुनाव का मौसम

    ReplyDelete
  5. सुन्दर है सरजी !

    ReplyDelete