Follow by Email

07 December, 2014

मैया गई बुढ़ाय, बड़े ने आँख तरेरी-




मेरी माँ की गोद में, भैया तू मत बैठ |
छूता ज्यों भैया बड़ा, छोटू जाता ऐंठ |

छोटू जाता ऐंठ, बड़ा भी उसे धकेले |
मेरी मेरी बोल, रोज ही करे झमेले | 

मैया गई बुढ़ाय, बड़े ने आँख तरेरी |
छोटा रहा नकार, रहा बक तेरी-मेरी || 

10 comments:

  1. बहुत खूब एक पूरा सफर ज़िंदगी का चंद लफ़्ज़ों में

    ReplyDelete
  2. एक कटु सत्य की ख़ूबसूरत अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  3. आज की हकीकत को बेनकाब करती कड़वी सच्चाई ,सादर

    मईया गई बुढ़ाय हुआ घनघोर अँधेरा
    कह रविकर कविराज हुआ घर भूत का डेरा
    बड़का ग पगलाय छोटका देता है गली
    अपने ही घर में भईया अब होता नही सबेरा

    ReplyDelete
  4. अठखेलियों भरा छंद ...

    ReplyDelete
  5. वाह, बहुत ख़ूब...सुंदर अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  6. मैया गई बुढाय तो बस हुई फालतू
    कौन रखेगा माँ को इस पर मै मै तू तू।

    ReplyDelete
  7. ख़ूबसूरत अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete