Follow by Email

12 July, 2016

कहते प्रभु सुन बैल, दुबारा नहीं बनाना

Image result for kolhu ka bail

जाना फिर से जमीं पर, जब देते प्रभु बोल।
कोल्हू के उस बैल की, नीयत जाती डोल।
नीयत जाती डोल, नाथ पति मुझे बना दो।
तेली ने की मौज, मुझे भी नारि दिला दो।
कहते प्रभु सुन बैल, दुबारा नहीं बनाना।
चुन लें दूजी यौनि, तुझे जाना ही जाना।।

1 comment:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (15-07-2016) को "आये बदरा छाये बदरा" (चर्चा अंक-2404) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete