Follow by Email

06 June, 2011

मोल चुका देने में, नुकसान नहीं प्यारे

ये   जिन्दगी  इतनी  आसान  नहीं  प्यारे |
गैर तो गैर अपने भी मेहरबान  नहीं  प्यारे ||

वे  रिश्ते जब  अपनी  कीमत तय कर ले |                           
मोल चुका देने में,  नुकसान  नहीं  प्यारे ||
                                      
अक्सरहां लोग बात करते हैं उसूलों  की |
टूट जाने से जिनके, परेशान नहीं प्यारे ||
                          
जरुरत   पर  तुरतै,  गुर्दा   दिया  निकाल |
जिगर में किन्तु उनके, एहसान नहीं प्यारे ||
                            
कमोवेश   एक   जैसा    हाल   है   कागा---
कोयल की चाल का निदान नहीं प्यारे ||

गुम-सुम सा आज, गांव का बरगद अपना |
पीपल पेड़  का बाकी   निशान  नहीं प्यारे  ||

8 comments:

  1. जरुरत पर तुरतै, गुर्दा दिया निकाल |
    जिगर में किन्तु उनके, एहसान नहीं प्यारे
    सही अभिव्यक्ति.रविकार जी बधाई....

    ReplyDelete
  2. आभार
    शालिनी जी

    ReplyDelete
  3. खूबसूरत गज़ल .

    फौलोअर्स का गेजेट लगाइए ..नहीं तो पाठकों का पहुंचना मुश्किल होगा ..

    ReplyDelete
  4. आभार
    संगीता स्वरुप जी

    ReplyDelete
  5. "फौलोअर्स का गेजेट"
    के लिए क्या प्रोसेस है कृपया जानकारी दें|

    ReplyDelete
  6. गुम-सुम सा आज, गांव का बरगद अपना |
    पीपल पेड़ का बाकी निशान नहीं प्यारे ...

    गाँव उजड़ रहे हैं। हरियाली कम हो रही है और उसी के साथ खुशहाली भी।

    .

    ReplyDelete
  7. @ गाँव उजड़ रहे हैं।
    हरियाली कम हो रही है और
    उसी के साथ खुशहाली भी
    चिंतन का विषय है |
    आभार

    ReplyDelete
  8. गुम-सुम सा आज, गांव का बरगद अपना |
    पीपल पेड़ का बाकी निशान नहीं प्यारे ||
    kitni sunderta se aapne aapni baat kahi hai.
    sabhi sher khubsurat hain
    rachana

    ReplyDelete