Follow by Email

10 June, 2011

डरना सीखो--"दमन-राज" से नहीं

डरना  सीखो--भूत-पिशाच से नहीं,
बल्कि  नर-पिशाच से |
डरना सीखो--महाविनाश से नहीं,
बल्कि  नरक-आँच से ||

डरना सीखो--सिर-बिठाने से नहीं,  
बल्कि  नंगे-नाच  से |
डरना सीखो--राज-काज से नहीं, 
बल्कि अन्धी-जाँच से |

डरना सीखो--तर्क-शास्त्र  से नहीं, 
बल्कि तीन-पाँच से | 
डरना सीखो--"दमन-राज" से नहीं,
बल्कि  आत्म-साँच से ||

8 comments:

  1. लगता है कि अब तो डरना ही पडेगा।

    ReplyDelete
  2. भाई जी !
    जाट डरता नहीं है--मैंने तो यही सुना है|

    ReplyDelete
  3. सही है ये डर तो होना और यही अपनालो.

    ReplyDelete
  4. आप सभी का आभार .
    १० मिनट पहले ही बोध-गया से लौटा हूँ, पहले आपसब की नई पोस्ट का रसास्वादन कर लूँ फिर---

    ReplyDelete
  5. डरना सीखो--तर्क-शास्त्र से नहीं,
    बल्कि तीन-पाँच से |
    डरना सीखो--"दमन-राज" से नहीं,
    बल्कि आत्म-साँच से ||
    kash log ye soch pate .bahut khub kaha hai aapne
    rachana

    ReplyDelete
  6. रचना जी बहुत-बहुत आभार ||

    ReplyDelete