Follow by Email

27 September, 2011

सत्ता-सर में बैठ , दूध से रोज नहाते ||


 
राजनीत  हर  चीज   में,  करें  विपक्षी  लोग |
प्रवक्ता    विद्वान    का,    उलाहना    संजोग |
उलाहना  संजोग,  नियम  से  जनपथ  जाते |
  सत्ता-सर   के   जीव,  दूध   से   रोज  धुलाते  ||
Police lathi-charge agitating workers near Mini Secretariat in Gurgaon on Monday.
दमन-शमन-बम-लूट,  बढ़ाते  इसी खीज में |
खप्पर  छलके  खून,  इजाफा  रक्त-बीज  में ||
http://1.bp.blogspot.com/-iTNGaEvx580/TmcktI6qgBI/AAAAAAAAF3U/Dh-2O0f8riU/00a55bab-cbc8-4b4e-966f-069a2964f7ceHiRes.JPG

8 comments:

  1. बहुत सुन्दर्…………माता रानी आपकी सभी मनोकामनाये पूर्ण करें और अपनी भक्ति और शक्ति से आपके ह्रदय मे अपनी ज्योति जगायें…………सबके लिये नवरात्रि शुभ हों

    ReplyDelete
  2. बहुत खूब .....क्या धोया है आपने

    ReplyDelete
  3. बहुत खूबसूरत रचना , सुन्दर भाव ,बधाई

    ReplyDelete
  4. बहुत ही सशक्त अभिव्यक्ति ..नवरात्रों पर हार्दिक शुभ कामनाएं !!!

    ReplyDelete
  5. बहुत बहुत बहुत ही सही कहा...न जाने इन रक्तबीजों का विनाश कब होगा...होगा भी या नहीं ?

    झकझोरती हुई बहुत ही सुन्दर रचना...

    ReplyDelete