Follow by Email

20 October, 2011

द्वन्द्व-दोहा : राजा जनक को समर्पित

आना-जाना एकसर, कर इसका एहसास |
साथ दूसरे का नहीं, केवल प्रभु-विश्वास ||
File:Janaka welcomes Rama.jpg
रहे  अकेला  तो  खले,  गले  गले  तक  देह |
बुद्धि-कर्ण-मुख-नासिका, बन्दर-बन्द-सनेह ||

द्वन्द्व पूरते द्वन्द्व हो, द्वादसबानी दंग |
जीवन गण-संघर्ष से, बन्दा  होता तंग ||
द्वादसबानी= सूर्य सा चमकदार / प्रखर / खरा/ चोखा/ सच्चा/ पक्का
द्वन्द्व = दो / युगल / संघर्ष  

एकाकी योगी रहे, भोगी चाहे गेह |
शान्ति पाए वही जो, देहातीत "विदेह" || 
एकाकी-पन कष्टकर, द्वन्द्व निकाले आह |
अनुभूती एकत्व की, गण में हो निर्वाह ||

9 comments:

  1. अच्छा लिखा है..बधाई.

    ReplyDelete
  2. सुन्दर और सटीक प्रस्तुति ..

    ReplyDelete
  3. अर्थ पढने के बाद ...सार समझने में आसानी रही...

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  5. यह तो अद्भुत प्रस्तुति है...
    सादर बधाई...

    ReplyDelete
  6. भाई रविकर जी बहुत सुंदर दोहे बधाई और दीपावली की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  7. नए नए शब्दों से परिचय करा रहे हैं आप

    ReplyDelete
  8. एकाकी योगी रहे, भोगी चाहे गेह |
    शान्ति पाए वही जो, देहातीत "विदेह".
    सुन्दर प्रस्तुति.

    ReplyDelete