Follow by Email

07 February, 2012

दिग्भ्रमित ; गुरु-गुरुर को भंग--

मेरी टिप्पणी-राम राम भाई पर

राहुल गांधी और काले झंडे .

अंध-गुरू की मती-मंद, दंद-फंद सह जंग | 
शब्द-कोष में ढूढ़ते, कृष्ण-रंग से दंग |

कृष्ण रंग से दंग, नंग जनता कर देती |
गुरु-गुरुर को भंग, तंग हो झंडा लेती |


जन-मन चंडी-चंड, पंथ-प्रतिबन्ध शुरू की |
  दण्ड करे शत-खंड, सुताई अंध-गुरु की ||

3 comments:

  1. सटीक प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  2. बहुत अच्छा लिखा आपने,बढ़िया सटीक प्रस्तुति.....

    NEW POST.... बोतल का दूध...

    ReplyDelete