Follow by Email

08 March, 2012

इक्यावन में एक, भाय मुद्रा डूलारी -


सारी मुद्राएँ हमें, भाय भाय भरमाय ।
शक्ल अक्ल को गुम करे, मन-तबियत हरियाय । 
मन-तबियत हरियाय, रूप बहु-रुपिया धारे।
समझूँ बप्पा-माय, लगे घर पुन: पधारे ।

इक्यावन में एक, भाय  मुद्रा  डूलारी ।
इसीलिए स्विस-बैंक, रखूँ सारी की सारी ।।


One dollar bill  Stock Photo - 4302363

5 comments:

  1. 'स्विस बेंक में फन फैलाए ,बैठी एक धामन .

    डॉलर में रुपया इक्यावन .'

    क्या बात है रविकर जी .इसे पूरा कीजिए ब्लॉग चक्र -धर रविकर दिनकर .

    ReplyDelete
  2. सुन्दर कुण्डलिया....
    सादर.

    ReplyDelete
  3. मुद्रा डुलारी, क्या बात है ।

    ReplyDelete
  4. बहुत बढ़िया प्रस्तुति!
    घूम-घूमकर देखिए, अपना चर्चा मंच
    लिंक आपका है यहीं, कोई नहीं प्रपंच।।
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  5. मुद्राराक्षस मत बनो
    मानो मेरा कहना
    पोल खुलेगी वरना इक दिन
    लगे हुए हैं अन्ना!

    ReplyDelete