09 March, 2012

चूहे रहे मुटाय, आलसी बने निगोड़े-

डालें दिन में दस दफा, बिना भूख के अन्न ।
पेटू भोजन-भट्ट का, धर्म-कर्म संपन्न ।

धर्म-कर्म संपन्न, बैठ के रोटी तोड़े ।
चूहे रहे मुटाय, आलसी बने निगोड़े ।

 चूहा भी खुशहाल, चार का दाना खाले ।
वहाँ भूख से मौत, यहाँ लत डेरा डाले ।।    
  

6 comments:

  1. मोटे चूहे,बिल्ली मोटी
    अपनी तो पहचान है छोटी !!

    ReplyDelete
  2. बहुत अच्छी प्रस्तुति!
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  3. वाह! सुन्दर कुण्डलिया...
    सादर बधाई.

    ReplyDelete
  4. आपकी पोस्ट आज की ब्लोगर्स वीकली मीट (३४) में शामिल की गई है /आप आइये और अपने विचारों से हमें अवगत करिए /आप इसी तरह मेहनत और लगन से हिंदी की सेवा करते रहें यही कामना है /आभार /लिंक है
    http://hbfint.blogspot.in/2012/03/34-brain-food.html

    ReplyDelete