Follow by Email

27 March, 2012

रविकर पहला प्यार, हमेशा हृदय पुकारे -

कासे कहूँ?

सारे दुःख की जड़ यही, रखें याद संजोय |
समय घाव न भर सका, आँखे रहें भिगोय ।

आँखे रहें भिगोय, नहीं मांगें छुटकारा  ।
सीमा में चुपचाप, मौन ही नाम पुकारा ।

रविकर पहला प्यार, हमेशा हृदय पुकारे ।
दिख जाये इक बार, मिटें दुःख मेरे सारे ।।



चीनी ड्रैगन लीलता, त्रिविष्टप संसार ।
दैव-शक्ति को पड़ेगा, पाना इससे पार ।

पाना इससे पार, मरे न गन से ड्रैगन ।
देखेगा गरनाल, तभी यह काँपे गन-गन ।

भरा पूर्ण घट-पाप,  ढूँढ़ जग चाल महीनी ।
होय तभी यह  साफ़, बड़ी कडुवी यह चीनी ।।

12 comments:

  1. होय तभी यह साफ़, बड़ी कडुवी यह चीनी ।।कृपया ढूंढ /ढूढ़ जो भी शुद्ध रूप है कर ले बजाय दूंढ़ के .दूंढ़ कोई जन -भाषा का शब्द तो नहीं है .
    प्रस्तुति बहु -आयामीय है .बढ़िया है -

    रविकर पहला प्यार, हमेशा हृदय पुकारे ।
    दिख जाये इक बार, मिटें दुःख मेरे सारे ।।

    ReplyDelete
  2. समय घाव न भर सका, आँखे रहें भिगोय ।
    समय निर्मम जो है...
    सुन्दर प्रस्तुति! सादर!

    ReplyDelete
  3. पहले-पहले प्यार की, रहती मीठी याद।
    शादी के पश्चात तो, जीवन है वरबाद।।

    ReplyDelete
    Replies
    1. ब्लॉग जगत पर बह चली , गेय-काव्य की धार |
      कौशल अरुण हबीब जी, गुरुवर है आभार ||

      Delete
  4. टिप्पणियों से पोस्ट को, सजा रहे हैं आप।
    मापडण्ड के साथ में, रहे रास्ता नाप।।

    ReplyDelete
  5. जो गाने के योग्य हो, काव्य उसी का नाम।
    रबड़छंद का काव्य में, बोलो क्या है काम।।

    ReplyDelete
    Replies
    1. रबड़-छंद में मिल रहा, रबड़ी जैसा स्वाद |
      पैंतिस चालीस टिप्पणी, है मिलती खुब दाद |

      करता चौबीस टिप्पणी, पाता हूँ मैं चार |
      सिखा सके विद्वान जो, दूँ शत शत आभार ||

      Delete
  6. आते हैं सत्संग में, गिने-चुने ही लोग।
    जिस्मनुमायस का सदा, मन को भाता रोग।।

    ReplyDelete
    Replies
    1. न्योता भेजो मंच का, समझें मूर्ख प्रपंच |
      खुद को ग्यानी कह रहे, छोड़ गए दो मंच ||

      Delete
  7. रचना, टिप्पणी और प्रत्युत्तर सभी बहुत बढ़िया, बधाई स्वीकारें.

    ReplyDelete
  8. हम तो जीते प्रेम में,पहला हो कि पंचम
    वर्तमान ही है अहम,कैसे रखें संयम!

    ReplyDelete
    Replies
    1. सही है भाई |

      वर्तमान को भोगिये, बीती ताहि विसार |
      मिलना-जुलना कुछ नहीं, व्यर्थ बढ़ाये रार ||

      Delete