Follow by Email

22 March, 2012

पानी चुल्लू भर नहीं, करे कुकर्मी ऐश-

पानी चुल्लू भर नहीं, करे कुकर्मी ऐश ।

सूखे पोखर में गई, भ्रष्टाचारी भैंस । 

भ्रष्टाचारी भैंस, तैस में पानी पी पी ।

कैसे कोसें दुष्ट, करे है बैठा ही ही ।

http://totallytop10.com/wp-content/uploads/2011/08/Dracula-2000.jpg

पानी दिया उतार, चढ़े अब कैसे पानी ।।

रविकर पानीदार, बहे धन जैसे पानी ।

9 comments:

  1. वाह! आदरणीय रविकर जी, सुन्दर कुण्डलिया....
    सादर.

    ReplyDelete
  2. पानी चुल्लू भर नहीं, करे कुकर्मी ऐश ।
    सूखे पोखर में गई, भ्रष्टाचारी भैंस ।
    कुण्डलियाँ रविकर की निशि दिन ताज़ा ही रहें .

    ReplyDelete
  3. वाह!!!
    भैंस गयी पानी में.....

    बहुत बढ़िया..
    सादर.

    ReplyDelete
  4. वाह साहब वाह
    सुन्दर कुंडलीयों के साथ चित्र सर्जन भी अच्छा है

    ReplyDelete
  5. ..पर जल-दिवस के दिन पानी की भी कमी महसूस कि जा रही है !

    ReplyDelete
  6. न पानी है - न पानीदार लोग.

    ReplyDelete
  7. बहे धन जैसे पानी,नहीं कोई भी चिंता
    मौन धरे चलता जाए सठियाया संता!

    ReplyDelete