Follow by Email

01 May, 2012

रविकर के चुटुकुले भी, लगते हैं अश्लील -

 उनकी मदिरा सोमरस, इज्जत करे समाज ।
रविकर पर थू थू करे, जो खाया इक प्याज ।।

 बाइक को पुष्पक कहे , घूमे मस्त सवार ।
 रविकर का वाहन लगे, उसे खटारा कार । 

रविकर आदर भाव का, चाटुकारिता नाम ।
नजर हिकारतमय वहां, ठोके किन्तु सलाम ।।

रविकर के चुटुकुले भी, लगते हैं अश्लील ।
मठ-महंत के हाथ से, कर लें वे गुड-फील ।।

  जालिम कर दे क़त्ल तो, वे बोले इन्साफ ।
रविकर देखा भर-नजर, नहीं कर सके माफ़ ।।

रविकर करे ठिठोलियाँ, खाय गालियाँ खूब ।
पर उनके व्यभिचार से, नहीं रहे वे ऊब ।। 

रविकर की पूजा लगे, ढकोसला आटोप ।
खाए उनकी गालियाँ, करे न उनपर कोप ।।

रविकर चूल्हा कर रहा, प्रर्यावरण खराब ।
उनकी जलती चिता को, हवन कह रहे सा'ब ।।

 तूफानी गति ले पकड़, रविकर  इक अफवाह ।
उनके घर का तहलका, शीतल पवन उछाह ।।

हकीकतें रविकर भली, पर घमंड हो जाय ।
वहां अकड़पन स्वयं  की, बोल्डनेस कहलाय ।।

उनकी दादा-गिरी भी, रविकर रहा सराह  ।
किन्तु हमारी विनम्रता,  बन दीनता कराह ।।

8 comments:

  1. गागर में सागर भरा,रविकर हुआ महान,
    इस दुनिया को देख ना,भूंके जैसे स्वान !!

    ReplyDelete
  2. बढिया अभिव्‍यक्ति ..
    पर क्‍या हो गया ??

    ReplyDelete
  3. हकीकतें रविकर भली, पर घमंड हो जाय ।
    वहां अकड़पन स्वयं की, बोल्डनेस कहलाय ।।

    उनकी दादा-गिरी भी, रविकर रहा सराह ।
    किन्तु हमारी विनम्रता, बन दीनता कराह ।।

    रविकर जी हर दोहा मारक है और शानदार मगर हुआ क्या है?

    ReplyDelete
  4. जालिम कर दे क़त्ल तो, वे बोले इन्साफ ।
    रविकर देखा भर-नजर, नहीं कर सके माफ़ ।।

    ...बहुत सशक्त और सटीक प्रस्तुति...लेकिन ये भाव आये क्यों?

    ReplyDelete
  5. बहुत खूब महाराज ...
    सही कही है ....शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  6. every line is a master blaster shot

    ReplyDelete
  7. क्या हुआ दिनेश जी? बुझी बुझी बातें क्यों?

    ReplyDelete
  8. ये सिर्फ एक रविकर की नहीं हर रविकर की व्यथा कथा है...रोचक रचना...

    नीरज

    ReplyDelete