Follow by Email

17 May, 2012

पति लम्पट / पत्नी सती / और वो -

(1)
करने पड़ेंगे हमें केश काले,  पुरानी मुहब्बत शहर आ रही  है ।
घटाने पड़े हैं हमें कुछ  निवाले,  कमर *कमकसी की  कहर ढा रही है ।
निकाले पुराने पढ़े वे रिसाले,  बसी खुशबू उनकी नशा छा रहा  है-  
करूँ खुद को रविकर उन्हीं के  हवाले, तबीयत अभी से मचल जा रही है ।।
 *कामचोर 
 (2)
चाय पिला दे जूठी अपनी, रेस्टोरेंट साथ जाकर ।
खीर चटा दे माल-मलाई, ठंडी कुल्फी चूस चुसाकर ।
कोने की दो टिकटें लेकर, देख रहे  डर्टी-पिक्चर 
लौंडों से झगड़ा हो जाये, दोनों जन हो जाते अन्दर-

 पत्नी  आकर जान बचाए ।
लौट के बुद्धू घर को आये ।
उठ्ठक-बैठक सौ करवाए । 
कौन नहीं फिर भी गुण गाये ।

(3)

 मारक  ताना  से  घायल  हो, ताना-बाना ही हिल जाए  ।
मांग भरी जो पहले हुलसित, पर मांग नहीं फिर भर पाए।
बिना टिकट के चढ़ें ट्रेन में, मन प्रेम-नगर छुक-छुक जाए ।
बैच-चेकिंग हो गई एक दिन,  फिर से दोनों ही पकडाए ।

चोर नहीं चोरी से जाए ।
फिर से पत्नी थाने आये ।
लम्पट पति को वापस लाये  ।
कान पकड़ मुर्गा बनवाये ।।


आगे की कथा नहीं बताएँगे-
तुम्हें भी जो करना है कर लो -
ठेंगे से - 



9 comments:

  1. वाह!!! बहुत सुन्दर..

    ReplyDelete
  2. Waaaaaaah..... Pehli waali to Super-duper Wah!

    ReplyDelete
  3. चोर नहीं चोरी से जाए ।
    फिर से पत्नी थाने आये ।
    लम्पट पति को वापस लाये ।
    कान पकड़ मुर्गा बनवाये ।।
    रविकर पूरी कथा सुनाये ,
    इंतज़ार का घूँट पिलाए .

    बढ़िया प्रस्तुति खूब रचाए .

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  5. सारे किस्से रोचक ....!

    ReplyDelete
  6. खूब मौज ली है आपने इस पोस्ट में। लम्पट पति की गति सही बयान की है।

    ReplyDelete
  7. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....


    इंडिया दर्पण
    की ओर से आभार।

    ReplyDelete