Follow by Email

09 October, 2012

निरवंशी नवाब : नव-कथा (100 शब्द)

नजफगढ़ के नवाब गुलाब गोदी गुरिल्ला युद्ध में मारे गए ।|
शहजादी परीजाद की शादी रुहेले सरदार रोबे खान से हुई ही थी कि परीजाद की ननद की घोड़े से गिरकर मौत हो गई ।
उसका इकलौता देवर भी
पानीपत के मैदान में डूब मरा। 
सरदार के अब्बू की रहस्यमय-परिस्थिति में मौत हो चुकी है -
अब सास एवं पति के साथ वह अपनी रियासत की उन्नति में लगी हुई है -
दिन हजार गुनी रात लाख गुनी  
शायद नजफ़गढ़ पर भी शहजादी की नीयत खराब है-
तभी तो 45 साल की उम्र में भी 
इसका भाई कुंवारा है -  
कुँवारे के भांजा भांजी ही मारेंगे भांजी ।।



5 comments:

  1. वह भाई नज़फगढ़ पर शासन करके करेगा ही क्या जो अपनी शादी भी ख़ुद न कर सका! नज़फगढ़ को तो कोई ऐसा राजा चाहिए जो कर ले दुनिया मुट्ठी में!

    ReplyDelete
  2. बढ़िया नव कथा लाज़वाब तंज किया है ज़नाब ने नवाबी पे .

    ReplyDelete
  3. बहुत खूब लिखा है .

    ReplyDelete
  4. Bahut SUndar facebook par aapake link sahit share kar raha hun

    ReplyDelete