Follow by Email

11 October, 2012

कूँची नहीं कटारी है : गजल कहने की कोशिश

रूह बदन पर भारी है ।
ये कैसी बीमारी है ।।

दुराचार का एक आरोपी  
भैया का व्यवहारी है ।।

 माया ने सबको लूटा-
 अब तो अपनी बारी  है ।।

ये आड़ी तिरछी रेखाएं -
कूँची नहीं कटारी है ।।

मँहगाई जिसको कहते -
 यक कोड़ा सरकारी है ।।

घोटाला उनकी नज़रों में 
एक खबर अखबारी है ।।

भ्रूण-नष्ट दुर्गा के रविकर । 
महिषा अत्याचारी है ।।

15 comments:

  1. घोटाला उनकी नज़रों में
    एक खबर अखबारी है ।।
    गजल कहने की कोशिश में तीखा व्यंग निकलकर आया है......
    आभार.........

    ReplyDelete
  2. वाह....
    कामयाब कोशिश है रविकर जी.....
    बहुत बढ़िया गज़ल कही.....

    लाजवाब शेर...
    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (13-10-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  4. वाह, जोरदार रविकर जी ।

    ReplyDelete


  5. 11 OCTOBER, 2012
    कूँची नहीं कटारी है : गजल कहने की कोशिश
    रूह बदन पर भारी है ।
    ये कैसी बीमारी है ।।

    दुराचार का एक आरोपी
    भैया का व्यवहारी है ।।


    गली चौराहे हर नुक्कड़ पर ,

    पहने खड़ा सफारी है ,

    सबसे बड़ा खिलाड़ी है .

    वो बैठी एक पटवारि है ,

    सबकी मत उसने मारी है .

    वो इटली की महामारी है ,

    हिन्दुस्तान पे भारी है .

    ReplyDelete


  6. 11 OCTOBER, 2012
    कूँची नहीं कटारी है : गजल कहने की कोशिश
    रूह बदन पर भारी है ।
    ये कैसी बीमारी है ।।

    दुराचार का एक आरोपी
    भैया का व्यवहारी है ।।


    गली चौराहे हर नुक्कड़ पर ,

    पहने खड़ा सफारी है ,

    सबसे बड़ा खिलाड़ी है .

    वो बैठी एक पटवारि है ,

    सबकी मत उसने मारी है .

    वो इटली की महामारी है ,

    हिन्दुस्तान पे ग्रह एक भारी है ,

    जिसको देखो बलिहारी है .

    वो बनी हुई त्रिपुराई है .

    ReplyDelete
  7. मँहगाई की मार तो सब पर ही बड़ी भारी है ......

    ReplyDelete
  8. यह तो कड़वा सच है ..बहुत बढ़िया //

    ReplyDelete
  9. महगाई पर प्रकाश डालती उम्दा रचना |
    आशा

    ReplyDelete
  10. रूह बदन पर भारी है ।
    ये कैसी बीमारी है ।।

    दुराचार का एक आरोपी
    भैया का व्यवहारी है ।।

    Virendra Sharma ‏@Veerubhai1947
    कागा यह बदमाश है, उड़ा नौलखा हार । http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/2012/10/blog-post_9832.html …
    Expand Reply Delete Favorite
    49m Virendra Sharma ‏@Veerubhai1947
    ram ram bhai मुखपृष्ठ http://veerubhai1947.blogspot.com/ सोमवार, 15 अक्तूबर 2012 कागा यह बदमाश है, उड़ा नौलखा हार ।

    ReplyDelete
  11. वाड्रा एक व्यापारी है ,

    सबकी मत क्यों मारी है ?

    ReplyDelete
  12. बढ़िया तंज भाई साहब .छोटी बहर में बड़ा कमाल .
    ram ram bhai
    मुखपृष्ठ

    सोमवार, 15 अक्तूबर 20

    12
    भ्रष्टों की सरकार भजमन हरी हरी ., भली करें करतार भजमन हरी हरी .http://veerubhai1947.blogspot.com

    ReplyDelete