Follow by Email

12 November, 2012

पॉलिटिकल यह शोहदे, पंहुचाते हैं ठेस -

Ganesh

 शुभकामनायें 

दीपावली 2012

Lakshmi


है पच्चास करोड़ का, मानहानि का केस ।
पॉलिटिकल यह शोहदे, पंहुचाते हैं ठेस ।

पंहुचाते हैं ठेस, बने दिग्गी आमोदी ।
जरा नहीं केजरी, बिचारी एक्ट्रेस रो दी।

एक्टिंग की उस्ताद, नहीं क्या यहाँ होड़ की ?
गर्ल फ्रेंड की बात, वही पच्चास करोड़ की ।। 

हुक्का-हाकिम हुक्म दे, नहीं पटाखा फोर ।
इस कुटीर उद्योग का,  रख बारूद बटोर ।
रख बारूद बटोर, इन्हीं से बम्ब बनाना ।
एक शाम इक साथ, प्रदूषण क्यूँ फैलाना ?
मारे कीट-विषाणु, तीर नहिं रविकर तुक्का ।
ताश बैठ के खेल, खींच के दो कश हुक्का ।


दूर पटाखे  से रहो, कहते हैं बैमान ।
जनरेटर ए सी चले, कर गुडनाइट ऑन । 
कर गुडनाइट ऑन, ताश की गड्डी फेंटे ।
किन्तु एकश: आय, नहीं विष-वर्षा मेंटे ।
गर गंधक तेज़ाब, नहीं सह पाती आँखे ।
रविकर अन्दर बैठ, फोड़ तू दूर पटाखे ।। 


  डेंगू-डेंगा सम जमा, तरह तरह के कीट |
    खूब पटाखे दागिए, मार विषाणु घसीट |
    मार विषाणु घसीट, एक दिन का यह उपक्रम |
    मना एकश: पर्व, दिखा दे दुर्दम दम-ख़म |
    लौ में लोलुप-लोप, धुँआ कल्याण करेगा |
    सह बारूदी गंध, मिटा दे डेंगू-डेंगा ||

6 comments:

  1. बढ़िया प्रस्तुति ... दीपावली पर्व के शुभ अवसर पर आपको और आपके परिजनों को हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं ....

    ReplyDelete
  2. दीपावली की वधाई के साथ-
    सुधार करने घूमते,'राजनीति' ले साथ|
    न् यह,न वह मिल सका, क्या आया है हाथ !!,

    ReplyDelete
  3. दीपावली की ढेर सारी शुभकामनायें |
    आपके इस प्रविष्टि की चर्चा कल बुधवार (14-12-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी । जरुर पधारें ।
    सूचनार्थ ।

    ReplyDelete
  4. रविकर साहब.... रौशनी और खुशियों के पर्व "दीपावली" की ढेरों मुबारकबाद क़ुबूल फरमाएँ!

    ReplyDelete

  5. --
    ஜ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬●ஜ
    (¯*•๑۩۞۩:♥♥ :|| दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें || ♥♥ :۩۞۩๑•*¯)
    ஜ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬▬▬▬▬●ஜ

    ReplyDelete
  6. है पच्चास करोड़ का, मानहानि का केस ।
    पॉलिटिकल यह शोहदे, पंहुचाते हैं ठेस ।

    पंहुचाते हैं ठेस, बने दिग्गी आमोदी ।
    जरा नहीं केजरी, बिचारी एक्ट्रेस रो दी।

    एक्टिंग की उस्ताद, नहीं क्या यहाँ होड़ की ?
    गर्ल फ्रेंड की बात, वही पच्चास करोड़ की ।।

    बहुत बढ़िया सर इन राजनीति के विदूषकों का मजाक ही उड़ाया जा सकता है .हैं तो यह तेल लगे बैंगन

    ReplyDelete