Follow by Email

17 January, 2013

तो कौन सा है दर्द भारी ?


सीमा में घुसपैठ हो, शीत युद्ध दे छेड़ ।
  विस्फोटों की बाढ़ है, पावे नहीं खदेड़  ।।
मजबूरी है क्या सरकारी ?
 तो,  कौन सा है दर्द भारी ?

मारे फौजी, काट सिर, जाता है धड़ फ़ेंक ।
हरदम कड़ा जवाब दे, सत्ता अपनी नेक ।।
कांग्रेस के हम आभारी ।
तो,  कौन सा है दर्द भारी ?
नक्सल मारे पुलिस को, रखे पेट में बम्ब ।
मिले हमेशा ही उन्हें, हिमायती आलम्ब ।।
निभा रहे हैं नातेदारी ।
तो,  कौन सा है दर्द भारी ?
किश्तों में हैं काटते, जनता की वे जेब ।
 मँहगाई गाई गई, झटक पचास फरेब ।।
सह लो फिर से यह मक्कारी ।
 तो,  कौन सा है दर्द भारी ?
दिल से दिल्ली दामिनी, दाग रही है धोय ।
हुवे प्रभावी मोर्चे, अँसुवन बदन भिगोय ।।
 मरे नहीं, पर अत्याचारी ।
तो,  कौन सा है दर्द भारी ?

8 comments:

  1. ये तो सारे ही दर्द भारी हैं ... अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  2. दर्द भरी ये दास्तान तभी ख़त्म होगी जब हम नेतृत्व करने वाले सुयोग्य जन प्रतिनिधियों चुनाव करेगे और निक्कामो की फ़ौज से पीछा चुडायेगे ,जिनका न तो कोई राजधर्म है न कोई उद्देश्यपूर्ण कर्म है

    ReplyDelete
  3. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (19-1-2013) के चर्चा मंच पर भी है ।
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  4. किसी को है फेसबुक का दर्द भारी तो किसी को चुभता ब्लाग का दर्द है भारी।
    बात की बात कि बेबात की फिक्र ---विजय राजबली माथुर

    ReplyDelete
  5. बहुत उम्दा प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  6. फिर भी

    कोउ नृप होय हमै का हानी कहती जनता सारी

    और इसीलिए आपकी रचना प्यारी

    "कुछ कहना है" तो कौन सा है दर्द भारी .....

    बहुत ही उम्दा .....बधाई

    ReplyDelete
  7. बस दर्द ही दर्द हैं यहां..जि‍क्र कि‍स-कि‍स का करें..बहुत बढ़ि‍या

    ReplyDelete