Follow by Email

26 January, 2013

अनुशंसा-तारीफ़, तनिक करना भी जानो-

विद्वानों की टोलियाँ, *बतर बोलियाँ बोल ।
करें कलेजा तर-बतर, पोल-पट्टियाँ खोल ।

पोल-पट्टियाँ खोल, झोल इसमें है लेकिन ।
नौसिखुवे हों गोल, हुवे हैं जिनको दो दिन ।

अनुशंसा-तारीफ़, तनिक करना भी जानो ।
अनजाने तकलीफ, नहीं दो हे!  विद्वानों ।।
*बुरी 

9 comments:

  1. बहुत खूब सर जी .चक्कू छुरियाँ चलने लगीं हैं कुछ के कलेजे पे .सांप भी लौटेंगे अभी .छोड़ना नहीं है इन सेकुलरों को .

    ReplyDelete
  2. देश के 64वें गणतन्त्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ!
    --
    आपकी पोस्ट के लिंक की चर्चा कल रविवार (27-01-2013) के चर्चा मंच-1137 (सोन चिरैया अब कहाँ है…?) पर भी होगी!
    सूचनार्थ... सादर!

    ReplyDelete
  3. बहुत गहरे मारा है।

    ReplyDelete
  4. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  5. मित्र, गणतन्त्रदिवस की हार्दिक शुभकामना के साथ-
    आप की रचनाओं की शहद पगी कटु औषधि के समाण मीठी कुंडलियों की चोट सराहनीय होप्ती है |

    ReplyDelete
  6. उम्दा प्रस्तुति के लिए बहुत बहुत बधाई...६४वें गणतंत्र दिवस पर शुभकामनाएं...

    ReplyDelete
  7. करारा वार ,उत्कृष्ट प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  8. सही कहा तारीफ भी होनी चाहिये । सुंदर प्रस्तुति ।

    ReplyDelete