Follow by Email

17 February, 2013

राजनैतिक कुण्डलिया : दर दरवाजा छोड़, लगा ना थोथा थापा

1
थोथा थापा द्वार पर, करता बन्टाधार |
पंजे के इस छाप से, कैसा अब उद्धार |
 
कैसा अब उद्धार, भांजती *थापी सत्ता |
थोक-पीट सामंत, उतारे कपडा-लत्ता |
 
रहे कब्र यह खोद, निभा अब ना बहिनापा |
दर दरवाजा छोड़, लगा ना थोथा थापा ||




2
गाई मँहगाई गई, नई नवेली सोच ।
अलबेली देवी दिखे, पीती रक्त खरोच ।

पीती रक्त खरोच, लगे ईंधन का चस्का ।
करती बंटाधार, मार मंत्री मकु मस्का ।

चढ़े चढ़ावा तेल, पुन: चीनी झल्लाई ।
 अब मांगी है जान, नहीं माने मँहगाई ।।

पश्चिम से होती हलचल ।
ताप गिरे दिन-रात का, ठंडी बहे बयार ।
ओले पत्थर गिर रहे, बारिस देती मार ।।
सागर के मस्तक पर बल ।
पश्चिम में होती हलचल ।।
शीत-युद्ध सीमांतरी, हो जाता है गर्म ।
चलते गोले गोलियां, शत्रु छेदता मर्म ।।
 काटे सर करके वह छल ।
पश्चिम में होती हलचल ।।
उड़न खटोला चाहिए, सत्ता मद में चूर ।
बटे दलाली खौफ बिन, खरीदार मगरूर ।
चॉपर अब तो तोपें कल ।
पश्चिम से होती हलचल ।।
भोगवाद अब जीतता, रीते रीति-रिवाज ।
विज्ञापन से जी रहे, लुटे हर जगह लाज ।
पीते घी ओढ़े कम्बल ।
पश्चिम में होती हलचल ।।
 परम्पराएँ तोड़ता, फिर भी दकियानूस ।
तन पूरब का ढो रहा, पश्चिम मन मनहूस । 
बदले मानव अब पल पल ।
पश्चिम में होती हलचल ।।
 

जब धरा पे है बची बंजर जमीं, बीज सरसों का उगा ले हाथ पर

 

7 comments:

  1. शानदार अभिव्यक्ति .

    भोगवाद अब जीतता, रीते रीति-रिवाज ।
    विज्ञापन से जी रहे, लुटे हर जगह लाज ।

    ReplyDelete
  2. वाह!
    आपकी यह प्रविष्टि आज दिनांक 18-02-2013 को चर्चामंच-1159 पर लिंक की जा रही है। सादर सूचनार्थ

    ReplyDelete
  3. सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  4. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  5. आपकी कलम कमाल की है सर!:-)
    ~सादर!!!

    ReplyDelete
  6. सादर अभिवादन के साथ,"मत्स्य गंधा फिर कोइ होगी
    किसी ऋषि का शिकार ,दूर तक फैला हुआ गहरा कुहासा
    देखिये (आदम गोंडवी),बहूत खूब

    ReplyDelete