Follow by Email

25 February, 2013

पीपल पलथी पाग, कहाँ सप्ताहिक मंडी-

गोरु गोरस गोरसी,  गौरैया गोराटि । 

  गो गोबर गोसा गणित, गोशाला परिपाटि । 


 गोशाला परिपाटि, पञ्च पनघट पगडंडी । 


पीपल पलथी पाग, कहाँ सप्ताहिक मंडी । 


गाँव गाँव में जंग,  जमीं जर जल्पक जोरू ।  
 
 भिन्न भिन्न दल हाँक, चराते रहते गोरु ॥ 
गोसा=गोइंठा / उपला
गोरसी = अंगीठी 
गोरु = जानवर 
गोराटि = मैना 
पाग=पगड़ी  
जलपक =बकवादी  

9 comments:

  1. मित्रवर, शाब्दी व्यंजना गज़ब की है !

    ReplyDelete
  2. आपने बिलकुल सही कहा बहुत खूब

    मेरी नई रचना
    ये कैसी मोहब्बत है

    खुशबू

    ReplyDelete

  3. ग की आनुप्रासिक छटा बिखेर दी आपने .

    ReplyDelete
  4. BlogVarta.com पहला हिंदी ब्लोग्गेर्स का मंच है जो ब्लॉग एग्रेगेटर के साथ साथ हिंदी कम्युनिटी वेबसाइट भी है! आज ही सदस्य बनें और अपना ब्लॉग जोड़ें!

    धन्यवाद
    www.blogvarta.com

    ReplyDelete
  5. अनुप्रास की प्रासिंगगता के साथ बेहतरीन शब्द संयोजन

    ReplyDelete