Follow by Email

02 March, 2013

बनवाया उस रोज, आय व्यय का तख्मीना



जीना मुश्किल हो गया, बोला घपलेबाज |
पहले जैसा ना रहा, यह कांग्रेसी राज |

यह कांग्रेसी राज, नियम से करूँ घुटाला |  
 खुल जाती झट पोल, पडा इटली से पाला |

बनवाया उस रोज, आय व्यय का तख्मीना |
जीते चालीस चोर, रोज मरती मरजीना ||

बजट = आय व्यय का तख्मीना



करकश करकच करकरा, कर करतब करग्राह  । 

तरकश से पुरकश चले, डूब गया मल्लाह ।  


डूब गया मल्लाह, मरे सल्तनत मुगलिया ।  

जजिया कर फिर जिया, जियाये बजट हालिया ।


धर्म जातिगत भेद, याद आ जाते बरबस । 

जीता औरंगजेब, जनेऊ काटे करकश ।  
करकश=कड़ा      करकच=समुद्री नमक 

करकरा=गड़ने वाला

कर = टैक्स

करग्राह = कर वसूलने वाला राजा

2 comments:

  1. क्या बात है, बहुत बढिया।
    सच ही तो है....

    ReplyDelete