Follow by Email

15 March, 2013

बेटा भेजूं हाट, समय-गति गत कर काटे -


काटे गए दरख्त हैं, बूढ़ पुरनियाँ रूग्न |
बीज नए यूरोप के, उगते पादप *भुग्न | 

उगते पादप *भुग्न, महामारी फैलेगी |
हुवे अधिनियम सख्त, त्रास लडको को देगी |

मिले विकट हथियार, कलेजा रविकर फाटे |
बेटा भेजूं हाट, समय-गति गत कर काटे ||

*वक्र / टेढ़ा
 

2 comments:


  1. मिले विकट हथियार, कलेजा रविकर फाटे |
    बेटा भेजूं हाट, समय-गति गत कर काटे ||

    बढ़िया प्रस्तुति .

    ReplyDelete
  2. समय की क्रूरता , अजब है

    ReplyDelete