08 March, 2013

हर-हर बम-बम, हर-हर बम-बम

 हर-हर  बम-बम,  बम-बम धम-धम |
तड-पत  हम-हम,  हर पल नम-नम ||

अकसर  गम-गम, थम-थम, अब थम |
शठ-शम शठ-शम, व्यरथम-व्यरथम ||

दम-ख़म, बम-बम, चट-पट  हट  तम |
तन  तन  हर-दम
*समदन सम-सम ||   
 *युद्ध


*करवर   पर  हम,  समरथ   सकछम |
अनरथ  कर कम, झट-पट  भर दम ||    
 *विपत्ति 

भकभक जल यम, मरदन  मरहम | 
हर-हर  बम-बम, हर-हर  बम-बम ||

12 comments:

  1. नगण की इस छंद बिरादरी के मौहल्ले का नाम क्या है???

    हर चरण में 'बारह लघु मात्रिक वाले छंद 'तरल नयन' से तो परिचित हूँ।
    किन्तु इस 'सोलह लघु मात्रिक छंद' का कोई तो नाम बताइये। यदि ये 'अनाम' है तो आज से इसे 'हर हर बम बम' छंद ही कहेंगे।

    रविकर जी, इसका कोई नाम हो तो ज्ञान में बढ़ोतरी अवश्य करिएगा।

    ReplyDelete
  2. जब आप अनर्थ को 'अनरथ' लिख रहे हैं तो 'अक्सर' को 'अकसर' और 'व्यर्थम- व्यर्थम' को 'व्यरथम-व्यरथम' लिखने की क्यों छूट नहीं ले रहे।

    ReplyDelete
  3. सत्य, सनातन, सुन्दर, शिव! सबके स्वामी।
    अविकारी, अविनाशी, अज, अन्तर्यामी ।

    हर हर महादेव.

    ReplyDelete
  4. बोल बम बोल बम .... हर हर महादेव शम्भू....जयकारा भोले नाथ का....हर हर महादेव

    ReplyDelete
  5. हर हर महादेव !

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!

    महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ !
    सादर

    आज की मेरी नई रचना आपके विचारो के इंतजार में
    अर्ज सुनिये

    ReplyDelete
  7. हर हर महादेव !

    ReplyDelete
  8. शिवरात्रि पर अपूर्व प्रस्तुति ।

    ReplyDelete
  9. हर हर महादेव
    (www.krtkraj.blogspot.in)

    ReplyDelete