Follow by Email

02 March, 2013

तीन, तीन तेरह करे, मार्च पास्ट करवाय

धनहर-ईंधन धन हरे, धनहारी मुसकाय ।
तीन, तीन तेरह करे, मार्च-पास्ट कर जाय। 

मार्च पास्ट करवाय, आय व्यय का तखमीना ।
आग लगे धनधाम, चैन जनता का छीना ।
 



इ'स्कैम और इ' स्कीम, भाव गहरे हैं रविकर । 
मार्च-लूट आभार,  बढे जाते हैं  धनहर ॥

तीन, तीन तेरह करे, मार्च पास्ट करवाय । 
धनहर-ईंधन धन हरे, धनहारी मुसकाय । 

धनहारी मुसकाय, आय व्यय का तखमीना । 
आग लगे धनधाम, चैन जनता का छीना । 

इ'स्कैम और इ' स्कीम, भाव इसमें हैं गहरे । 
धन्य धन्य सरकार, तीन, तीन तेरह करे ॥ 

धनहर=धन चुराने वाला 
धनहारी = दूसरे के धन का उत्तराधिकारी 
धनधाम=रूपया पैसा और घरबार 

8 comments:

  1. बहुत सुन्दर | बधाई


    यहाँ भी पधारें और लेखन पसंद आने पर अनुसरण करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    ReplyDelete
  2. तीन और तेरह का बेहतरीन खेल,"तीन तीन तेरह कहे ,लिखे
    उसे तैतीस,जब जब मुह खोले,दाँत दिखे बत्तीस .

    ReplyDelete
  3. वाह!
    आपकी यह प्रविष्टि कल दिनांक 04-03-2013 को सोमवारीय चर्चा : चर्चामंच-1173 पर लिंक की जा रही है। सादर सूचनार्थ

    ReplyDelete
  4. सुंदर रचना
    बधाई

    ReplyDelete
  5. सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  6. बहुत खूब सुन्दर अभिव्यक्ति।।।।।।

    मेरी नई रचना
    आज की मेरी नई रचना आपके विचारो के इंतजार में
    पृथिवी (कौन सुनेगा मेरा दर्द ) ?

    ये कैसी मोहब्बत है

    ReplyDelete
  7. वाह पी सी के बजट पर चुटीला व्यंग ।

    ReplyDelete