Follow by Email

17 April, 2013

अदा-अदालत लत-लताड़ : भोगता उपभोक्ता

सन 2003 की बात है । मोटरसाइकिल पुरानी हो गई थी । नया वाहन खरीदने की जरुरत बड़ी शिद्दत से महसूस की जाने लगी थी । मनु और शिवा नौवी कक्षा में पहुँच गए थे । स्कूल पहुंचाने और लाने में दिक्कत महसूस होने लगी थी ।  तनु भी चाहती थी कि कार खरीदी जाय । 25 अप्रैल को मारुती 8 0 0 EURO II के लिए रूपये 1.25 लाख बतौर एडवांस रिलायबुल इंडस्ट्रीज धनबाद के एजेंट तमाल घोष के पास जमा करा दिया था । लोन के फॉर्म भी भर दिए थे ।

अपने मित्र अरुण कुमार सिंह के साथ 5-6 बार शो-रूम गया किन्तु  9 मई से पहले मैं गाडी की डिलीवरी न पा सका । घर पहुंचकर बच्चों को कार में बिठाकर घूमने निकला । बच्चों ने फैन चलाने के लिए कहा । अरुण जी ने जैसे ही कार का फैन चलाया -हवा के साथ बहुत सारे कांच के टुकडे निकल कर हमारे चेहरे से टकराए । पिछली सीट पर बैठे बच्चों के चेहरे लहुलुहान हो गए । 

हम तुरंत रिलायबुल इंडस्ट्रीज धनबाद के शो रूम गए और शिकायत दर्ज कराई-तमाल घोष आये उन्होंने माफ़ी मांगी और वाहन की साफ़ सफाई के लिए वाहन को वर्कशॉप ले गए । वर्कशॉप मैनेजर मि. श्रीवास्तव ने बताया की ट्रांसपोर्टेशन में कभी-कभी विंड-स्क्रीन टूट जाती है । इसी विंड स्क्रीन के टुकड़े  हैं  ये । हमारा फोटो भी खींचा  गया -हैप्पी कस्टमर --

मुखड़े बड़े प्रसन्न थे, उत्फुल्लित थे गात । 
नई कार का आगमन,  आखिर हुआ प्रभात । 

आखिर हुआ प्रभात, मगन-मन बच्चे चढ़ते । 
लेकिन सिर मुड़वात, तड़ातड़ ओले पड़ते । 

बच्चों की क्या बात,  मातु बच्चों की उखड़े । 
देखा लहूलुहान, लाल उन सबके मुखड़े । 

3 comments:

  1. पुरानी बातें याद करके आनंद तो आता है
    अब कार बदलिये भाई...

    नई कार के लिए शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  2. अबकी बार जब नई कार ले कर आओगे
    शो रूम में ही चलवा कर पंखा देख आओगे !

    ReplyDelete