Follow by Email

07 June, 2013

सदा प्यार से श्रेष्ठ, मित्रता मेरे लेखे

 देखे हर सम्बन्ध से, श्रेष्ठ मित्रता प्यार ।
स्वार्थ सिद्ध सुख-योग की, करे प्यार मनुहार ।

करे प्यार मनुहार, स्वयं की ख़ुशी मूल है ।
 जाता देना भूल, करे पर कुल क़ुबूल है ।

सदा प्यार से श्रेष्ठ, मित्रता मेरे लेखे ।
श्रेष्ठ मित्रता भाव, परस्पर सुख दुःख देखे ।

6 comments:

  1. आपकी यह पोस्ट आज के (०८ जून, २०१३) ब्लॉग बुलेटिन - हबीब तनवीर साहब - श्रद्धा-सुमन पर प्रस्तुत की जा रही है | बधाई

    ReplyDelete
  2. सदा प्यार से श्रेष्ठ, मित्रता मेरे लेखे ।
    Jay Ho ! Shubh Ho !

    Pranam evam Abhar Adaraniy !

    ReplyDelete
  3. sahee kaha. sacchi mitrata pyar se shreshth hai.

    ReplyDelete
  4. बहुत ही बेहतरीन और सार्थक प्रस्तुति,आभार।

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्‍दर रचना आभार
    मेरी नई पोस्‍ट पढिये और अपने विचारों से मुझे भी अवगत करार्इ्रये
    गूगल seo से बढायें अपने ब्‍लाग का traffic

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्‍दर रचना...badhaai

    ReplyDelete