28 July, 2013

जीवन से कुल हास्य रस, जग ले जाए छीन-

अखरे नखरे खुरखुरे, जब संवेदनहीन  |
जीवन से कुल हास्य रस, जग ले जाए छीन |

जग ले जाए छीन, क्षीण जीवन की आशा |
बिना हास्य रोमांस, गले झट मनुज-बताशा |

खे तनाव बिन नाव, किनारा निश्चय लख रे |
लाँघे विषम बहाव, ज्वार-भांटा नहिं अखरे ||

8 comments:

  1. हंसी खुशी ही जीवन है । बढिया प्रस्तुति ।

    ReplyDelete
  2. खे तनाव बिन नाव, किनारा निश्चय लख रे |
    लाँघे विषम बहाव, ज्वार-भांटा नहिं अखरे ||
    sahi kaha hai bahut sundar ...

    ReplyDelete
  3. खे तनाव बिन नाव, किनारा निश्चय लख रे |
    लाँघे विषम बहाव, ज्वार-भांटा नहिं अखरे ||

    तनावरहित होकर किसी भी समस्या को सुलझाया जा सकता है
    बहुत खूब , सादर !

    ReplyDelete
  4. क्या बात क्या बात है रविकर भाई की।

    ReplyDelete
  5. आपको यह बताते हुए हर्ष हो रहा है के आपकी यह विशेष रचना को आदर प्रदान करने हेतु हमने इसे आज के ब्लॉग बुलेटिन - हंसी के फव्वारे पर स्थान दिया है | बहुत बहुत बधाई |

    ReplyDelete