Follow by Email

09 September, 2013

क्षिति को शिला जीत उकसाए । कामातुर अँधा हो जाए ।

"ओ बी ओ लाइव महा उत्सव"अंक - 35


एक भाव-तीन विधा

कुण्डलियाँ 

क्षिति जल पावक नभ हवा, घटिया कच्चा माल ।
निर्माना पारम्परिक, दिया शोध बिन ढाल ।

दिया शोध बिन ढाल,  प्रदूषित-जल, छल-"काया" ।
रविकर पावक बाल, दंभ ने गाल बजाया ।

हवा होय अनुरक्ति, गगन पर थूके हर पल ।
निर्माता आलस्य, भस्म बन जाए "क्षिति" जल ॥


सवैया छंद

निरमान करे जल से क्षिति सान समीर अकाश सुखावत है |
पर पुष्ट नहीं हुइ पावत जू तब पावक पिंड पकावत है |
जब काम बढे प्रभु नाम बढे, तब ठेकप काम करावत है |
परदूषित पंचक तत्व मिले,  बन मानव दानव आवत है ||

चौपाई

क्षिति जल पावक गगन समीरा
घटिया दूषित जमा जखीरा ।
छली बली है खनन माफिया ।
आम हुई है रपट खूफिया ॥

निर्माता अब देता ठेके ।
बना बना के जस तस फेंके ॥
आलोचना सदैव अखरती ।
निंदा आग बबूला करती ॥

क्षिति को शिला जीत उकसाए ।
कामातुर अँधा हो जाए ।
आसमान पर थूका करता ।
मानव बरबस पानी भरता ।

नीति-नियम का उल्लंघन कर ।
 करता जलसे मानव अक्सर ॥
हवा हवाई किले बनाता ।
किन्तु नहीं चिंतित निर्माता ॥

4 comments:

  1. मित्र!शास्त्रीय छंदों को बढ़ावा जो आप दे रहे हैं वह सराहनीय है !

    ReplyDelete

  2. निरमान करे जल से क्षिति सान समीर अकाश सुखावत है |
    पर पुष्ट नहीं हुइ पावत जू तब पावक पिंड पकावत है |
    जब काम बढे प्रभु नाम बढे, तब ठेकप काम करावत है |
    परदूषित पंचक तत्व मिले, बन मानव दानव आवत है ||
    यही है तमो प्रधान सृष्टि के लक्षण।

    ReplyDelete
  3. बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  4. सुंदर और सटीक.....महोदय सभी एक से बढ़कर एक
    साभार.....

    ReplyDelete