Follow by Email

13 October, 2013

नया बने सम्बन्ध, पकाओ धीमा धीमा

सीमांकन दूजा करे, मर्यादा सिखलाय |
पहला परवश होय तब, हृदय देह अकुलाय |

हृदय देह अकुलाय, लगें रिश्ते बेमानी |
रविकर पानीदार, उतर जाता पर पानी |

नया बने सम्बन्ध, पकाओ धीमा धीमा |
करिए स्वत: प्रबन्ध, अन्य क्यूँ पारे सीमा  ??

(दुर्गा-पूजा / विजयादशमी की मंगल-कामनाएं )
(१२-२३ अवकाश पर हूँ-सादर )

6 comments:

  1. विजयादशमी की अनंत शुभकामनाएं
    बहुत सुंदर
    उत्कृष्ट प्रस्तुति
    बधाई

    ReplyDelete
  2. बहुत ही सुंदर..नवरात्रि की शुभकामनाएँ ..

    ReplyDelete
  3. प्रश्न अच्छा उठाया है.

    ReplyDelete
  4. करिये स्वतः प्रबन्ध यह सलाह बढिया है और संवधो को धीमे धीमे पकाने की बात भी।

    ReplyDelete